Posted By

संविधान नहीं नवउदारवाद का अभिरक्षक राष्ट्रपति प्रेम सिंह (‘युवा संवाद’ में प्रकाशित यह लेख जून 2012 का है और मेरी पुस्तक ‘भ्रष्टाचार विरोध : विभ्रम और यथार्थ’ (वाणी प्रकाशन) में संकलित है. नए राष्ट्रपति के चुनाव को लेकर चलने वाली बहस के मद्देनज़र आपके पढ़ने के लिए प्रेषित कर रहा हूँ. लेख का तभी का… Read More

Posted By

भाजपा की दमनकारी नीति भारतीय जनता पार्टी या उसका प्रेरणा स्रोत राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का लोकतंत्र में कोई खास विश्वास नहीं है। इसलिए वे अपने खिलाफ किसी भी विरोध को कुचलने की कोशिश करते हैं। विरोधियों के साथ वार्ता, जो लोकतंत्र का प्रचलित तरीका है में उन्हें विश्वास नहीं। वे अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को नहीं… Read More

Posted By

(यह लेख 2009 का है. आपके पढ़ने के लिए फिर दिया जा रहा है.) जमीन लेंगे … और जान भी प्रेम सिंह जमीन की जंग खेत, जंगल, नदी-घाटी, पठार, पहाड़, समुद्र के गहरे किनारे – हर जगह जमीन की अंतहीन जंग छिड़ी है। यह जंग जमीन पर बसने और उसे हथियाने वालों के बीच उतनी… Read More

Posted By

शिक्षा को निजी विद्यालयों के चंगुल से मुक्त कराने के लिए अनशन मुफ्त एवं अनिवार्य शिक्षा का अधिकार अधिनियम, 2009 में 25 प्रतिशत अलाभित एवं दुर्बल वर्ग के बच्चों के लिए अपने पड़ोस के किसी भी विद्यालय में कक्षा 1 से 8 तक निःशुल्क पढ़ने का अधिकार है। शैक्षणिक सत्र 2015-16 में लखनऊ के जिलाधिकारी… Read More

Posted By

क्या चीन पाकिस्तान आर्थिक गलियारे से कश्मीर समस्या का समाधान निकल सकता है? नरेन्द्र मादी ने प्रधान मंत्री बनने के बाद पहले दो वर्ष में जो दुनिया के तमाम देशों के तूफानी दौरे किए उसमें उनकी काफी ऊर्जा इस बात में खर्च हुई कि पाकिस्तान को एक आतंकवादी राष्ट्र के रूप में चिन्हित करा उसे… Read More

Posted By

PATH TO KASHMIR’S SOLUTION We were told that surgical strike was a decisive blow to Pakistan and it had been taught an appropriate lesson. Then we were made to believe that demonetisation would break the backbone of terrorism and naxalism. It was hoped that such incidents would cease. But there doesn’t seem to be any… Read More

Posted By

Why and How “Secularism” in Our Constitution Ravi Kiran Jain Any discussion on secularism would need first to focus on two basic aspects: Firstly, the word ‘secularism’ has no substitute in any of our languages. Like the ‘war’ is the opposite word of ‘peace’, in common parlance in the Indian context, ‘secularism’ is understood by… Read More

Posted By

जशोदाबेन के अधिकारों के प्रति किसे सहानुभूति होगी? भारतीय जनता पार्टी ने मुस्लिम समाज में तीन बार तलाक कह पति द्वारा पत्नी से सम्बंध विच्छेद कर लेने की प्रथा के खिलाफ एक अभियान छेड़ा हुआ है जो अत्यंत काबिले तारीफ है। मुस्लिम धर्म गुरूओं द्वारा यह कहना कि यह उनके धार्मिक कानूनों के मामले में… Read More