Posted By

धर्मिक होने के मायने जबकि बंग्लादेश को छोड़कर कोई भी करीब चार लाख रोहिंग्या मुसलमानों को जो म्यांमार से जातीय हिंसा में भगाए जा रहे थे, जिसको वहां की सरकार का मौन समर्थन प्राप्त था, लेने को तैयार नहीं था इंग्लैण्ड की एक सिक्ख धर्मार्थ संस्था खालसा एड ने बंग्लादेश पहुंच कर रोहिंग्या लोगों के… Read More

Posted By

कुलपति के छुट्टी चले जाने से आई.आई.टी. की समस्या का हल कैसे होगा? काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के विवादास्पद कुलपति गिरीश चन्द्र त्रिपाठी के लम्बी छुट्टी चले जाने से फिलहाल तो वि.वि. का माहौल शांत हो गया है। वे न सिर्फ वि.वि. को नुकसान पहुंचा रहे थे बल्कि परिसर में ही स्थित भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान के… Read More

Posted By

Friday 29 September, 2017 By Rajindar Sachar Columns A Plea for Justice – Women Reservation in Parliament and State Legislatures Mrs. Sonia Gandhi has written to Prime Minister Modi to get the women Reservation Bill passed in the parliament and is reported to have promised full support. This has led to war of words between… Read More

Posted By

काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के कुलपति की घोर असफलता प्रोफेसर गिरीश चन्द्र त्रिपाठी को यह मानने में कोई संकोच नहीं कि जिन्दगी भर की राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की सेवा के फलस्वरूप ही उन्हें काशी हिन्दू विश्वविद्यालय का कुलपति पद मिला। रा.स्व.सं. सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी की वैचारिक प्रेरणास्रोत है। प्रो. त्रिपाठी अपनी अकादमिक काबिलियत के लिए… Read More

Posted By

ABJECT FAILURE OF A VICE CHANCELLOR   Professor Girish Chandra Tripathi, according to his own admission, became the Vice Chancellor of nationally important Banares Hindu University because of his service to the Rashtriya Swayamsewak Sangh, the ideological parent of the ruling dispensation of Bhartiya Janaata Party in India. He is not particularly known for his… Read More

Posted By

संघ परिवार की राजनीति में हिंसा के बीज प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी का जन्मदिन मनाया गया नर्मदा नदी पर बनने वाले सरदार सरोवर बांध को राष्ट्र के नाम समर्पित करके। इस बांध के डूब क्षेत्र में 244 गांव व एक नगर आता है। बांध की लागत करीब एक लाख करोड़ रुपए पहुंच रही है। रु…. Read More

Posted By

शिक्षा के अधिकार के जमीनी सिपाही दलित समुदाय के 32 वर्षीय रवीन्द्र के पास उत्तर प्रदेश के हरदोई जिले के कछौना विकास खण्ड में स्थित अपने गांव पुर्वा में इतनी कम जमीन है कि उसका परिवार भूमिहीन की श्रेणी में आता है। गांव के अन्य रोजगार की तलाश में नवजवानों की तरह उसने भी 8-10… Read More

Posted By

FOOTSOLDIERS OF RIGHT TO EDUCATION             Ravindra is a 32 years youth belonging to Dalit community with so little land in his village Purwa in Kachuna Block of Hardoi District of Uttar Pradesh that his family would be classified as landless. He left his parents, a brother and a sister, at home about 8-10 years… Read More