Posted By

(29 और 30 नवम्बर 2018 को देश भर से आये किसानों ने अपनी समस्याओं को लेकर दिल्ली में दस्तक दी. कई विपक्षी पार्टियों के शीर्ष नेताओं ने उनके समर्थन और सरकार के विरोध में भाषण किये. मीडिया ने वही कवर किया. देश भर में किसानों के साथ उनके मुद्दों पर काम करने वाले और उन्हें… Read More

Posted By

(यह लेख 23 अप्रैल 2013 का है. ‘युवा संवाद’ में प्रकाशित हुआ था. एक बार फिर आपके पढ़ने के लिए ज़ारी किया है.) फर्जी राजनीति के दौर में प्रेम सिंह फर्जी राजनीति का कांग्रेसी घराना जल्दबाजी में लिखा गया यह ‘समय संवाद’ कुछ ज्यादा तीखा लग सकता है। जिस तरह से नवउदारवाद के भारतीय एजेंटों… Read More

Posted By

विपक्षी गठबंधन की गांठें और मुसलमान प्रेम सिंह मोदी-शाह की जोड़ी की एक के बाद एक चुनावी जीत ने केंद्र और विभिन्न राज्यों में सत्ता के प्रमुख खिलाड़ियों के सामने अस्तित्व का संकट खड़ा कर दिया था. घबराये विपक्षी दलों में भाजपा-विरोधी चुनावी गठबंधन बनाने की कोशिशें होने लगीं. लोकतंत्र पर फासीवादी संकट के मद्देनज़र… Read More

Posted By

छात्र राजनीति में भी विचारधारा का अंत आईसा और सीवाईएसएस का अवसरवादी और सिद्धांतहीन गठबंधन राजेश कुमार दिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संघ (डूसू) चुनाव में सीपीआई (एमएल) की छात्र शाखा आल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन (आईसा) और आम आदमी पार्टी की छात्र शाखा छात्र युवा संघर्ष संस्थान (सीवाईएसएस) ने आधिकारिक तौर पर गठबंधन का एलान किया है।… Read More

Posted By

गांधी की डेढ़ सौंवी सालगिरह : एक विनम्र सुझाव प्रेम सिंह गांधी की डेढ़ सौंवी सालगिरह को लेकर काफी चर्चा है. इस अवसर पर केंद्र सरके की ओर से देश और विदेश में भारी-भरकम आयोजन होंगे. इसके लिए सरकार ने प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में एक विस्तृत राष्ट्रीय समिति का गठन किया है. इसके साथ एक… Read More

Posted By

The Crisis, the Solutions and the Intelligentsia Prem Singh The present government has opened almost all areas – from education to defense- for intervention by foreign capital. The loot of the country’s resources and labor is closely associated with this decision of the government. The ministers of the ruling party often make a variety of… Read More

Posted By

संकट, समाधान और बुद्धिजीवी प्रेम सिंह वर्तमान भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार ने सभी क्षेत्रों को विदेशी पूंजी के लिए खोल दिया है. देश के संसाधनों और श्रम की लूट इस फैसले के साथ जुड़ी हुई है. सरकार के मंत्री संविधान बदलने सहित अक्सर तरह-तरह की संविधान-विरोधी घोषणाएं करते हैं. शिक्षा का तेज़ी से बाजारीकरण… Read More

Posted By

SOLUTION TO ASSAM’S FOREIGNERS PROBLEM Through the National Register of Citizens update and the Citizenship (Amendment) Bill the ruling Bhartiya Janata Party government is trying to communally polarise a state which doesn’t have a history of any major communal incidents except for the 1983 Nellie massacre. The six years agitation launched by All Assam Students’… Read More

Posted By

दिल्ली में भूखी बच्चियों की मौत : कौन जिम्मेदार? प्रेम सिंह देश की राजधानी दिल्ली के मंडावली इलाके में तीन बच्चियों (मानसी 8 साल, शिखा 4 साल, पारो 2 साल) की एक साथ मौत चर्चा, अफसोस, जांच और राजनैतिक पार्टियों/नेताओं के बीच आरोप-प्रत्यारोप का विषय बनी हुई है. तीनों बहनें थीं. उनकी मां बीना के… Read More