Posted By

Two Phenomena of ‘Modi Era’ : Virtual World and Unabated Communal-Caste Conflicts Prem Singh First phenomenon : Prime Minister Narendra Modi’s team has succeeded in projecting the political debate from the ground on to the virtual world. The political and intellectual class has played a pivotal role in the last three decades in the crystallisation… Read More

Posted By

दिल्ली विश्वविद्यालय में ठेका-शिक्षण का मुद्दा प्रेम सिंह दिल्ली विश्वविद्यालय में इस समय करीब 5 हज़ार शिक्षक तदर्थ हैं. ये तदर्थ शिक्षक हर साल प्रत्येक अकादमिक सत्र में कॉलेज प्रशासन द्वारा लगाए-हटाये जाते रहते हैं. इस प्रक्रिया में उन्हें तदर्थ शिक्षक से अतिथि शिक्षक भी बना दिया जाता है. इनमें से बहुतों को किसी सत्र… Read More

Posted By

Issue of contractual-teaching at Delhi University Prem Singh University of Delhi is replete with ad-hoc teachers as it presently employs around five thousand teachers who work in the ad-hoc capacity. Year after year, a hire and fire policy is adopted with regard to their employment by the college administration for every academic session. In this… Read More

Posted By

कारपोरेट राजनीति का विज्ञापन बनी दिल्ली प्रेम सिंह यह टिप्पणी कोई पत्रकार साथी लिखता तो अधिक सार्थक होती और ज्यादा लोगों तक पहुंचती. दरअसल मैं इंतज़ार करता रहा कि शायद कोई साथी इस विषय की तरफ ध्यान देगा और लिखेगा. लेकिन दिल्ली महानगर के चहरे-मोहरे, जिसकी अनंत छवियां और सामाजिक-राजनीतिक निहितार्थ हो सकते हैं, पर… Read More

Posted By

A ‘capital’ transformation : Delhi as a symbol of corporate politics advertisement Prem Singh It would have been more pertinent and meaningful if this piece had been written by a journalist friend. Actually, I had waited for some time hoping that one or another journalist friend would turn his attention to this subject and write… Read More

Posted By

कारपोरेट राजनीति का विज्ञापन बनी दिल्ली प्रेम सिंह यह टिप्पणी कोई पत्रकार साथी लिखता तो अधिक सार्थक होती और ज्यादा लोगों तक पहुंचती. दरअसल मैं इंतज़ार करता रहा कि शायद कोई साथी इस विषय की तरफ ध्यान देगा और लिखेगा. लेकिन दिल्ली महानगर के चहरे-मोहरे, जिसकी अनंत छवियां और सामाजिक-राजनीतिक निहितार्थ हो सकते हैं, पर… Read More

Posted By

(29 और 30 नवम्बर 2018 को देश भर से आये किसानों ने अपनी समस्याओं को लेकर दिल्ली में दस्तक दी. कई विपक्षी पार्टियों के शीर्ष नेताओं ने उनके समर्थन और सरकार के विरोध में भाषण किये. मीडिया ने वही कवर किया. देश भर में किसानों के साथ उनके मुद्दों पर काम करने वाले और उन्हें… Read More

Posted By

(यह लेख 23 अप्रैल 2013 का है. ‘युवा संवाद’ में प्रकाशित हुआ था. एक बार फिर आपके पढ़ने के लिए ज़ारी किया है.) फर्जी राजनीति के दौर में प्रेम सिंह फर्जी राजनीति का कांग्रेसी घराना जल्दबाजी में लिखा गया यह ‘समय संवाद’ कुछ ज्यादा तीखा लग सकता है। जिस तरह से नवउदारवाद के भारतीय एजेंटों… Read More

Posted By

विपक्षी गठबंधन की गांठें और मुसलमान प्रेम सिंह मोदी-शाह की जोड़ी की एक के बाद एक चुनावी जीत ने केंद्र और विभिन्न राज्यों में सत्ता के प्रमुख खिलाड़ियों के सामने अस्तित्व का संकट खड़ा कर दिया था. घबराये विपक्षी दलों में भाजपा-विरोधी चुनावी गठबंधन बनाने की कोशिशें होने लगीं. लोकतंत्र पर फासीवादी संकट के मद्देनज़र… Read More